मूल संरचना

 

सिंटर संयंत्र

आंतरिक ज्वलन से उत्पन्न ताप के माध्यम से खनिजों के छोटे कणों को पिघलाते हुए उनका पोरस पदार्थ के रूप में परिवर्तन ही सिंटरिंग प्रक्रिया कहलाती है| सिंटर संयंत्र में लौह अयस्क चूर्ण, कोक ब्रीज, चूनापत्थर और डोलोमाइट के साथ धात्विक व्यर्थ के पुन:चक्रित पदार्थ को मिश्रित पदार्थ में परिवर्तित किया जाता है| इसमें 70-80% लौहधारित पदार्थ होते हैं, जिन्हें धमन भट्ठी में डाला जाता है| सिंटरिंग की ऊर्ध्वाधर गति ग्रेट के नीचे बने सक्शन पर आधारित होती है| वी एस पी में ग्रेट के नीचे 1500-1600 मिलिमीटर वॉटर कॉलम के सक्शन बनाने हेतु प्रत्येक मशीन के लिए दो एक्जॉस्टर लगाये गये हैं|

सुविधाएँ

  • 378 वर्गमीटर ग्रेट एरिया (आधुनिकीकरण पश्चात) के साथ सिंटर मशीन-1
  • 312 वर्गमीटर ग्रेट एरिया के साथ सिंटर मशीन-2
  • 408 वर्गमीटर ग्रेट एरिया के साथ सिंटर मशीन-3

प्रमुख विशेषताएँ

  • प्रत्येक 1,10,000 टन भंडारण क्षमता के 6 बेड के साथ बेस मिक्स (सभी प्रकार के कच्चेमाल का समरूप मिश्रण) ब्लेंडिंग यार्ड
मशीन -1 व 2
  • सिंटर मशीन-1 में (आधुनिकीकरण पश्चात) रूफ माउंटेड ऊर्जा दक्ष बर्नरों के साथ चैंबर टाइप इग्नीशन फर्नेस लगाया गया है| मशीन-2 में हॉरिजांटल बर्नरों का इग्नीशन फर्नेस लगाया गया है|
  • मशीन-1 (आधुनिकीकरण पश्चात) में बेड की ऊँचाई 650 मिलिमीटर और मशीन-2 में 500 मिलिमीटर|
  • स्ट्रेटलाइन सिंटर कूलर
  • मशीन 1 व 2 के सिंटर कूलरों से व्यर्थ ऊष्मा पुन:प्राप्ति के उपयोग के माध्यम से 20.6 मेगावाट विद्युतीय ऊर्जा उत्पादन क्षमता वाला सिंटर ऊष्मा पुन:प्राप्ति विद्युत संयंत्र (एस एच आर पी पी)
मशीन-3
  • बेड की ऊँचाई 700 मिलिमीटर |
  • रूफ माउंटेड ऊर्जा दक्ष बर्नरों के साथ चैंबर टाइप इग्नीशन फर्नेस |
  • 4 फीड प्वाइंट के माध्यम से गर्म हवा की आपूर्ति करनेवाले 27 मीटर लंबा विस्तारित हुड |
  • व्यर्थ ऊष्मा पुन:प्राप्ति वाले सर्कुलर सिंटर कूलर |
  • सिंटर मशीन भवन के मिक्सिंग व नॉड्युलाइजिंग अनुभाग में लाइम एडिशन|

क्षमता

  • उत्पादन क्षमता
    • सिंटर मशीन-1 : प्रतिवर्ष 3.640 एम टन कुल सिंटर (आधुनिकीकरण पश्चात)
    • सिंटर मशीन-2 : प्रतिवर्ष 2.628 एम टन कुल सिंटर
    • सिंटर संयंत्र-3 : प्रतिवर्ष 3.611 एम टन कुल सिंटर

प्रवर्तन की तिथियाँ

आर एम बी (कच्चामाल बिन) से बेसमिक्स तैयारी - 03.11.1989
मशीन – 1 प्रवर्तित (3.0 एम टन स्तर) - 14.11.1989
मशीन – 1 हॉट ट्रॉयल का प्रवर्तन (आधुनिकीकरण पश्चात) - 08.08.2017
मशीन – 2 प्रवर्तित - 27.12.1991
मशीन – 3 इंटेग्रेटेड ट्रॉयल रन का प्रवर्तन - 04.07.2013